Blood - R.B.C. - W.B.C. - Platelets ( रक्त की संरचना एवं कार्य )

Blood ( रक्त ):- 

- रक्त एक प्रकार का संयोजी उत्तक है ।

- इसका PH 7.4 ( हल्का क्षारीय ) होता है। 

- सामान्य व्यक्ति मे रक्त की मात्रा - 5.6 लीटर होती है। 

- रक्त का अध्ययन - हिमेटोलौजी ( Hematology ) कहलाता है।

- रक्त का निर्माण - लाल अस्थिमज्जा मे होता है तथा भ्रूणावस्था मे प्लीहा मे रक्त का निर्माण होता है। 

- रक्त निर्माण की प्रक्रिया - हीमोपेइसिस कहलाती है। 

- रक्त का तरल भाग प्लाज्मा कहलाता है। जो रक्त मे 55% होता है तथा कणीय भाग 45% होता है। 


:- रक्त व लसिका मे अन्तर-

- रक्त ( Blood )-

- इसमे लाल रुधिराणु उपस्थित रहते है। 

- श्वेत रुधिराणु कम, न्यूट्रोफिल्स सबसे अधिक होते है। 

- घुलनशील प्रोटिन्स अधिक व अघुलनशील प्रोटिन्स कम होते है। 

- O2 व पोषक पदार्थ काफी मात्रा मे होते है। 

- उत्सर्जी पदार्थों व CO2 की मात्रा समान्य होती है। 

:- लसिका ( Lymph )-

- इसमे लाल रुधिराणु अनुपस्थित रहते है। 

- श्वेत रुधिराणु अधिक, लिंफोसाइट्स सबसे अधिक रहते है। 

- इसमे प्रोटिन्स कम, अघुलनशील प्रोटिन्स अधिक रहते है। 

O2 व पोषक पदार्थ बहुत कम मात्र मे होते है। 

- इनकी मात्रा काफी अधिक होती है। 

:- R.B.C. ( Red Blood Cells ) लाल रक्त कणिकाएँ :-

- ये ऑक्सीज़न का परिवहन करती है। 

- इन्हे इरिथ्रोसाइट भी कहते है। 

- इनकी संख्या रक्त मे 55 लाख प्रति mm3 होती है। 

- इनका जीवन काल 120 दिन का होता है ।

- इनकी आकृति द्विअवतल जैसी होती है। 

- प्लीहा को RBC का कब्रिस्तान कहा जाता है। 

- RBC मलेरिया मे कम हो जाती है। 

नोट :- सभी स्तंधारियों की परिपक्व RBC मे केन्द्रक व कोशिकांग अनुपस्थित होते है लेकिन ऊंट व लामा इसके अपवाद है। 

- सबसे छोटी आकृति की RBC - कस्तुरी मृग की है।

- सबसे बड़ी आकृति की RBC - एम्फियूमा है। 

- रक्त क लाल रंग, फेरस आयन के कारण होता है। 

- RBC मे हीमोग्लोबिन की मात्रा नर मे 14 -16 gm/100 ml व मादा मे 12 - 14 gm/100 ml होती है। 

- 1 ग्राम हीमोग्लोबिन मे 1.34 ml O2 का परिवहन होता है। 

- ऊंचाई पर जाने पर RBC की संख्या बढ़ जाती है। 

:- W.B.C. ( White Blood Cells ) श्वेत रक्त कणिकाएँ -

- ये प्रतिरक्षा प्रदान करती है। 

- इनको ल्यूकोसाइट भी कहते है। 

- इनकी संख्या रक्त मे 10 हज़ार प्रति mm3 होती है।

- ये अस्थि मज्जा मे बनती है।

- WBC का परिपक्वन - लसिका ग्रंथि, प्लीहा एवं थाइमस ग्रंथि मे होता है। 

- केन्द्रक की आकृति व कणिकाओ के आधार पर WBC / ल्यूकोसाइट 5 प्रकार की होती है।

- संक्रमण के समय WBC का रक्त वाहिनिओ से उत्तक मे आना Diapedesis ( डायपेडेसिस ) कहलाता है। 

- रक्त कैंसर मे WBC अनियंत्रित रूप से बढ़ जाता है इसे रक्त कैंसर ( ल्यूकेमिया ) कहते है। 

:- Platelets ( प्लेटलेट्स ) -

- इनका जीवनकाल 5 से 9 दिन का होता है। 

- ये केवल स्तनधारीयों मे पाई जाती है। 

- इनकी संख्या घटना - थ्रोंबोसाइ-टोपीनिया, एवं संख्या बढ्ना - थ्रोमोबोसाइ- टोसिस कहलाता है।

:- लसिका ( Lymph ) -

- यह रक्त के समान परंतु रंगहीन द्रव है

- इसके  द्वारा  लसिका कणिकाओ का निर्माण किया जाता है। 

- लसिका कोशिका, लसिका नोड से निर्मित होती है जो एक सिरे पर खुली तथा दूसरे सिरे पर बंद होती है। 

- लसिका द्रव शरीर से विभिन्न अंगो से हृदय की ओर बहता है। 

     खोज - लैण्ड स्टीनर /  वर्ष - 1900

- वर्गीकरण का आधार- इन्हे प्रतिजन के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है।


- रक्त को चार भागो मे बांटा जाता है। 

  1. A ( 25% )

  2. B ( 35% )

  3.  AB ( 10% )

  4. O  ( 30% )

- Antigen - ( प्रतिजन ) ये ग्लाइकोप्रोटीन के बने होते है। 

- ये RBC की सतह पर पाये जाते है तथा दो प्रकार ( A, B ) होते है। 

- Antibody प्रतिरक्षी - ये प्रोटीन के बने होते है। 

   ये प्लाज्मा मे पायी जाती है। 

  ये 2 प्रकार ( A ) Anti-a तथा ( B ) Anti-b के होते है। 

 ये रक्त मे एंटीजन के विपरीत पाई जाती है। 

 इन्हे एंटीसीरम या इम्मुनोग्लोबूलिन भी कहते है। 


- एंटीजन व एंटीबोड़ी के मध्य परस्परिक क्रिया को समूहीकरण कहते है। 

- सर्वदाता समूह O- ( इसमे कोई एंटीजन नही )

- सर्वग्राही समूह - AB+ ( इसमे कोई Antibody नहीं होती ) 

- कोई भी प्रोटीन पदार्थ जिसे शरीर मे प्रवेश कराने पर यदि वह Antibody निर्माण को प्रेरित करे, Antigen कहलाता है। 


:- Rh-Factor -

- खोज - लैण्ड स्टीनर तथा वीनर ने की। वर्ष 1940 

- यह एक प्रकार का एंटीजन है। 

- ये रीसस बंदर के रक्त मे खोजा गया। 

- जिन व्यक्तियों मे यह पाया जाता है वो Rh +ve कहलाते है। तथा जिनमे अनुपस्थित होता है उन्हे Rh -ve कहते है। 

- विश्व मे 85% लोग Rh +ve है। 

- भारत मे 93% लोग Rh +ve है। 

- विवाह के लिए अयोग्य जोड़ा - Rh+ नर + Rh- मादा 

- इस अवस्था मे पहली संतान तो सामान्य होती है तथा बाद वाली संतानो की भ्रूणीय अवस्था मे मृत्यु हो जाती है। 

- इस रोग को इरिथ्रोब्लास्टोसिस फिटेलिस कहते है। 


Special Points:- 

- रक्त बैंक ( Blood bank ) :- 

- 21 से 60 साल तक व्यक्ति रक्त दे सकता है। 

- एक बार मे 10% अधिकतम दान कर सकता है तथा 2 सप्ताह बाद फिर से दान कर सकता है। 

- अधिकतम 42 दिन तक रक्त को रक्त बैंक मे रखते है। इसे 4.4 डिग्री सेल्सियस तापमान पर रखा जाता है। 

- रक्त को जमने से रोकने के लिए प्रतिस्कन्दन मिलाते है प्रतिस्कन्दन निम्न है-

  1.  EDTA 

  2.  सोडियम साइट्रेट 

  3.  सोडियम ड्रैक्सट्रेट 

- ये कैल्शियम को बांध लेते है जिससे रक्त जमता नहीं है।     


Previous Years Questions:--

- विटामिन बी6 की कमी से पुरुषो मे हो जाता है - अरक्तता 

- पूरानी और नष्ट प्राय लाल रक्त कोशिकाएँ कहाँ नष्ट हो जाती है - प्लीहा मे 

- सबसे बड़ा श्वेत रुधिराणु है - एक केन्द्रकाणु ( मोनोसाइट ) 

- शरीर मे श्वेत रुधिराणुओ का मुख्य कार्य क्या है - शरीर की रोगो से रक्षा करना 

- रोग प्रतिकारको को उत्पन्न करने वाला सेल कौन सा है - लिंफोसाइट 

- एड्स के विषाणु किसे नष्ट कर देते है - लिंफोसाइट    

- प्राकृतिक कोलाइड कोनसा है - रक्त 

- रक्त मे हीमोग्लोबिन एक सम्मिश्र प्रोटीन है जिसमे भरपूर मात्रा मे पाया जाता है - लौह 

- रक्त धारा मे ऑक्सीज़न ले जाने वाला प्रोटीन होता है - हीमोग्लोबिन 

- हीमोग्लोबिन की अधिकतम बंधुता होती है - कार्बन मोनोऑक्साइड के लिए 

- सार्वत्रिक रक्त दाता वे लोग है जिनका रुधिर वर्ग होता है - O

- यदि माता-पिता मे एक का रुधिर वर्ग AB है और दूसरे का O तो उनके बच्चे का संभावित रुधिर वर्ग होगा - A या B 

- सर्वग्राही कोनसे रुधिर वर्ग का होता है - AB 

- रक्त के AB वर्ग वाला व्यक्ति एसे व्यक्ति को रक्तदान कर सकता है जिसके रक्त का वर्ग हो - AB 

- मानव का सामान्य रक्त दाब कितना होता है - 80/120 मिमी. पारा 

- एक किशोरवय मनुष्य मे सामान्य रक्त दाब कितना होता है - 120/80 मिमी. पारा 

- रक्तदाब का नियंत्रण कोण करता है - अधिवृक्क ( एड्रीनल ) ग्रंथि 

- हायपरटेंशन' शब्द किसके लिए प्रयोग किया जाता है - रक्तचाप बढ्ने क लिए 

- वयस्क पुरुष मे RBC की संख्या होती है - 5.0 मिलियन 

- रक्त मे प्रतिस्कन्द्क पदार्थ कौनसा है - हिपैरिन 

- मानव रुधिर मे कोलेस्ट्रोल का सामान्य स्तर है - 180-200 mg%

- मनुष्य मे सामान्य निरन्न रुधिर शर्करा स्तर प्रति 100 ml रुधिर होता है - 80-100 mg 

- वयस्कों मे खाली पेट रुधिर ग्लूकोज स्तर mg/100 mg मे होता है - 60 

- मानव रुधिर की सामान्य मात्रा होती है - 5 लीटर 

- मानव मे कुल रक्त आयन मे प्लाज्मा का प्रतिशत लगभग कितना होता है - 55 

- कणिकाओ के बिना रक्त मे तरल अंश को कहते है - प्लाज्मा 

- अरक्तता किसकी कमी के कारण होती है - फोलिक एसिड 

- रक्त स्त्राव को रोकने के लिए आमतौर पर किस एलुमिनियम लवण का प्रयोग किया जाता है - पोटाश एलम 

- क्रिस्मस फैक्टर किसमे निहित होता है - रक्त जमाव 

- लाल रक्त कणिकाओ का औसत जीवन काल लगभग कितने समय का होता है - 100 - 120दिन 

- केंचुए की पृष्ठिय रुधिर वाहिका मे रक्त का प्रवाह किस ओर होता है - अग्रगामी 

- इसमे प्रतिस्कन्दक नही होते - बर्र 

- बी-लसीकाणु के द्वारा होने वाली प्रतिरक्षा को क्या कहते है - उपार्जित प्रतिरक्षा 

- ब्लड कैंसर को आमतौर पर इस नाम से जाना जाता है - ल्यूकेमिया 

- रक्त कैंसर का लक्षण असामान्य वृद्धि है - श्वेत रक्त कोशिकाएं 

- शिरा मे किस प्रकार का रक्त प्रवाहित होता है - अशुद्ध रक्त 

- हमारे शरीर का रक्त दाब होता है - वायुमंडलीय दाब से अधिक 

- कोलेस्ट्रोल की सामान्य सीमा मानव मे कितनी है - 150/260 mg/100ml 

- लाल रक्त कणिकाएँ मुख्यत: बनती है - अस्थि मज्जा मे 

- हृदय कब आराम करता है - दो धडकनों के बीच 

- जब रक्त मे ऑक्सीज़न की सांद्रता मे कमी आती है तो - साँस लेने की गति बढ़ जाती है 

- रक्त एक प्रकार का होता है - तरल संयोजी उत्तक 

- मानव शरीर के कुल भार  मे कितने रक्त उसके शरीर मे मौजूद रहता है - 7% या वजन का 13वां भाग 

- ph मान 7.4 रक्त को एक विलियन बनाता है - क्षारीय 

- महिलाओ मे पुरुषो के मुकावले रक्त कम होती है - 1/2 ली. 

- रक्त का मृत तरल भाग प्लाज्मा कहलाता है यह रक्त का लगभग 60% होता है 

- प्लाज्मा का ग्लूकोज होता है - क्रमश: 90% भाग जल, 7% प्रोटीन, 0.9 % लवण तथा 0.1 % भाग 

- प्लाज्मा का मुख्य कार्य है - पचे हुए भोजन एवं हार्मोन का शरीर मे संवहन      

Post a Comment

If you have any doubts, Please let me know

नया पेज पुराने